मां श्री यादे की जयंती पर अवकाश की मांग

Spread the love

मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन में प्रजापति समाज को सत्ता व संगठन में बराबरी का हक देने की मांग

उज्जैन, कैलाश कृपा। सोमवार को प्रजापति समाज के एक प्रतिनिधि मण्डल ने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान के नाम ज्ञापन देकर समाज की आराध्या मां श्री यादे देवी की जयंती पर अवकाश की मांग की है। साथ ही ज्ञापन के माध्यम से मुख्यमंत्री से संगठन व सत्ता में समाज को जगह देने की मांग की।

बीपीएचओ के प्रदेश प्रमुख मुकेश प्रजापति को स्नेहजनो ने दी जन्मदिन की बधाई

समाज के प्रतिनिधि मण्डल में शामिल डॉ. बी.एल. प्रजापति ने जानकारी देते हुए बताया कि समाज के एक दर्जन से अधिक लोगों ने कोठी पहुंचकर कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया है। इसमें समाज की आराध्या मां श्री यादे की जयंती पर प्रदेशभर में अवकाश देने की मांग के साथ ही सरकार में प्रजापति समाज के व्यक्ति को जगह देने की बात कही है। वहीं माटी कला बोर्ड के पुर्नगठन की मांग भी समाजजनों ने ज्ञापन के माध्यम से की है। समाजजनों ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि आपके पिछले कार्यकाल में एक-एक विधायक और वर्तमान कार्यकाल में प्रजापति समाज के दो विधायक हैं।

Demand for leave on the birth anniversary of mother Mr. Yade

मंत्री मण्डल विस्तार में सरकार द्वारा समाज के प्रतिनिधियों को जगह नहीं दी। इन विधायकों में से किसी एक को सरकार में शामिल किया जाए। समाजजनों ने बताया कि समाज के 70 फीसदी मतदाता पार्टी संगठन के साथ है बावजूद प्रजापति समाज को संगठन में किसी पद पर वरियता नहीं दी गई है। अत: समाजजनों की मांग है कि समाज के लोगों को संगठन में प्रतिनिधित्व प्रदान किया जाए। 2008 में प्रजापति समाज को विकास की मुख्यधारा में लाने के लिए माटीकला बोर्ड का गठन किया था।

13 वर्ष में सिर्फ ५ लोगों को ही इस बोर्ड में प्रतिनिधित्व मिला जबकि 2 वर्ष के कार्यकाल के हिसाब से 6 लोगों को प्रतिनिधित्व मिल सकता था। इसलिए माटी कला बोर्ड का पुर्नगठन किया जाए। समाजजनों ने मांग की है कि आगामी पंचायत एवं नगरीय निकाय चुनावों में समाजजनों को बराबरी का प्रतिनिधित्व मिले। इस अवसर पर समाज के दुलीचंद प्रजापति, दिनेश कुंभकार, गजराजसिंह प्रजापति, रामस्वरूप प्रजापति, सुरेश बिलोटिया आदि प्रमुख रूप से उपस्थित हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *